बदरीनाथ में GMVN के रीजनल मैनेजर की हार्ट अटैक से मौत

Spread the love

बदरीनाथ धाम में अभी तक हृदय गति रुकने से छह लोग तोड़ चुके दम – बदरीनाथ : चार धामों में सर्वश्रेष्ठ मोक्ष धाम बदरीनाथ में गढ़वाल मंडल विकास निगम के रीजनल मैनेजर पान सिंह बिष्ट ने हृदय गति रुकने से दम तोड़ दिया है, बदरीनाथ धाम में अभी तक ह्दय गति रुकने से छह लोग दम तोड़ चुके हैं. उच्च हिमालय क्षेत्रों में मौजूद चारधामों तक पहुंचने से पहले तीर्थयात्रियों को अपने स्वास्थ्य को संतुलित रखने के लिए विशेष एहतियात बरतनी जरुरी है.

चमोली के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.

एसपी कुड़ियाल ने बताया कि मैदानी क्षेत्रों से सीधे उच्च हिमालय क्षेत्रों में पहुंचने से पहले तीर्थयात्रियों को अपने स्वास्थ्य के लिए कुछ बातों पर विशेष ध्यान देना जरुरी है, उच्च हिमालय क्षेत्रों में ऑक्सीजन कम होती चली जाती है, जिससे बुजुर्गों, सांस की बीमारी, ह्दय रोगी व कोमोर्बिडिटी (अन्य शारीरिक बीमारी) वाले मरीजों को सांस से संबंधी दिक्कतें आ जाती है, जिससे उनके फेफड़ों में सूजन आ जाती है। सांस लेना दूभर हो जाता है, कभी कभी यह हार्ट अटैक का भी रूप ले लेता है,

इससे बचने के लिए तीर्थयात्रियों को यात्रा पर जाने के लिए पर्याप्त समय लेकर आना चाहिए, छह से आठ हजार की ऊंचाई पर पहुंचने पर यात्री को यहां कम से कम 24 घंटे विश्राम करना चाहिए, जिससे शरीर में विपरीत प्रभावों से लड़ने की क्षमता पैदा हो जाती है। इसके बाद वे उच्च हिमालय क्षेत्र में पहुंचने के लिए काफी हद तक स्वस्थ हो जाते हैं। इससे मृत्यु होने का खतरा भी काफी हद तक टाला जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *