नई दिल्ली ! पूर्व सांसद नवीन जिंदल के सताए छत्तीसगढ़ के आदिवासी महिलाओं, किसान, मजदूर, जवानों का दिल्ली जंतर मंतर पर धरना।

Spread the love

 

राजधानी दिल्ली जंतर मंतर
ज़मीन हड़पने, हत्या, बलात्कार, सरकारी आदेश और कोर्ट के आदेश भी ना मानने का आरोप।

राजधानी दिल्ली के जंतर मंतर पर छत्तीसगढ़ से आए आदिवासी गरीब किसानों ने धरना प्रदर्शन किया।
निहंग जथेबंदियों के मुखी बाबा चढ़त सिंह ने कहा अगर आदिवासियों की मांगे ना माननी गयी तो नवीन जिंदल के खिलाफ पूरे भारत में प्रदर्शन किये जाएंगे।

इन किसानों में आदिवासी महिला जरनैल कौर उर्फ़ तरीका तरंगिनि, ज्योति सिदार, हरिप्रिया, का कहना है कि इनकी जमीन विकास के नाम पर छत्तीसगढ़ सरकार ने पूंजीपतियों के हाथ बेच दी।

इन्हें नाम मात्र का मुआवजा दिया और इनकी जमीन हड़प ली।

जिन्होंने जमीने नहीं बेची उनके साथ बदसलूकी, दुर्व्यवहार, और अत्याचार किए गए साथ ही उन्हें मारा-पीटा गया और झूठे मुकदमों में फंसा कर उनकी जमीन हड़प ली गई।

अब यह आदिवासी, किसान, मजदूर, जवान दिल्ली में जंतर मंतर पर इस उम्मीद के साथ आए की इन्हें इनकी खेती की जमीन दोबारा से वापस मिल जाए।

हालांकि जो जमीन सरकार ने अधिग्रहित की है उस पर कई फैक्ट्रियां और यूनिवर्सिटी बना दी गई है।

लेकिन यह किसान अभी भी अपना हौसला नहीं खोना चाहते हैं, इनका कहना है कि लड़ाई चाहे कितनी भी लंबी हो जाए लेकिन यह हार मानने वाले नहीं हैं।

सरकार को इनकी मांगे माननी ही पड़ेगी इन लोगों ने प्राइवेट कंपनियों के मालिकों के खिलाफ भी बोलते हुए कहा कि उन कंपनियों के मालिकों खास तोर पर नवीन जिंदल पर कार्यवाही की जानी चाहिए जिन्होंने आदिवासी महिला जरनैल कौर उर्फ़ तरीका तरंगिनि, ज्योति सिदार, हरिप्रिया, की जमीनों को हड़प लिया है।

जंतर मंतर पर आज इन के सपोर्ट में पंजाब के निहंग सिख भी धरने पर दिखाई दिए इन लोगों ने कहा कि हम इन लोगों के साथ हैं और जब तक सरकार इनकी मांगें नहीं मान लेती है तब तक यह चुप बैठने वाले नहीं हैं।

आज छत्तीसगढ़ से आए आदिवासी गरीब किसानों, मजदूरों, जवानो, किसानो, निहंगों, महिलाओं ने भारत के राष्ट्रपति, भारत के प्रधानमंत्री, भारत के ग्रह मंत्री इत्यादी को नवीन जिंदल पर ऍफ़ आई आर दर्ज करने की अपनी मांग का ज्ञापन भी दिया।

छत्तीसगढ़ राज्य के आदिवासी किसान, मजदुर, महिलाऐं अपनी मांगो को लेकर दिल्ली जंतर मंतर धरना देकर गए हैं , प्रधानमंत्री राष्ट्रपति, ग्रह मंत्री को ज्ञापन भी देकर गए हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.