पौड़ी गढ़वाल : “स्कूली छात्र भी पढ़ेंगे अब नरेश चन्द्र उनियाल की बाल कविताएं”

Spread the love

 

पैठाणी, पौड़ी गढ़वाल। जूनियर हाई स्कूल घण्डियाली, वि.क्षेत्र – थलीसैंण, पौड़ी गढ़वाल, उत्तराखण्ड के सहायक अध्यापक नरेश चन्द्र उनियाल की बाल कविताएं और बालगीत बहुत लोकप्रिय हो रहे हैं। अब इन कविताओं और गीत को प्राथमिक स्तर के छात्र छात्राएं भी अपने विद्यालय में पढ़ सकेंगे।
श्री उनियाल ने बताया कि उन्होंने अपनी रचित “नभ के तारे” नाम की कविता को स्कूल तक पहुंचाने के लिए फ्लेक्स बोर्ड पर कविता को प्रिंट करवाया है।
उन्होंने कहा कि यदि शासन स्थानीय कवियों को मौका देता तो उनकी इस कविता को पाठ्यक्रम में शामिल होने का अवसर प्राप्त होता। किन्तु लगता नहीं है कि ऐसा होगा, इसलिए उन्होंने स्वयं ही इस कविता को छात्र /छात्राओं के बीच ले जाने का प्रयास किया है।

नरेश चन्द्र उनियाल ने बताया कि वे चाहते हैं कि राज्य के माननीय शिक्षा मंत्री तक यह कविता पहुंचे, ताकि वे इसे पढ़कर पाठ्यक्रम में शामिल करने में सहायक सिद्ध हों। उन्होंने बताया कि अभी उन्होंने पैठाणी (थलीसैंण ) क्षेत्र के पैठाणी संकुल और स्योली संकुल के सभी प्राथमिक एवं जूनियर विद्यालयों के लिए कविता उपलब्ध करवा दी है। पैठाणी संकुल के फ्लेक्स बोर्ड श्री प्रदीप नौटियाल, एवं स्योली संकुल के बोर्ड श्री कन्हैयालाल नौटियाल जी से प्राप्त किये जा सकते हैं। जिन्हे उपलब्ध नहीं हो पा रही है, वे श्री उनियाल से ही सम्पर्क कर सकते हैं।
अध्यापक नरेश चन्द्र उनियाल ने सभी अध्यापक भाई बहिनों से अनुरोध किया है कि वे उपरोक्त लोगों से कविता प्राप्त कर विद्यालय में टांगकर छात्रों को पढ़वाएं और उन्हें मौखिक याद करवाऐं। अध्यापक भाई बहिनों का सहयोग ही आगे लिखने को प्रेरित करेगा।
क्षेत्र के विद्वज्जनोँ ने श्री उनियाल के इस प्रयास की सराहना की है।जूनियर हाई स्कूल घंड़ियाली के प्रधानाध्यापक कुंवर सिंह राणा ने भी इस हेतु श्री उनियाल की पीठ थपथपाई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.