श्रद्धा हत्याकांड खौफनाक ही नही, असल में उससे कहीं ज्यादा झकझोरने वाला है, कमजोर दिल वाले न पढ़ें इस खबर को

Spread the love

  • कोर्ट ने दी आफताब के नार्को टेस्ट की मंजूरी, अब तक हो चुके ये खुलासे

Shraddha Murder Case : श्रद्धा हत्याकांड सुनने में जितना ही खौफनाक लग रहा है, असल में उससे कहीं ज्यादा है।

पुलिस इस घिनौने हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में जुटी हुई है। आफताब को लेकर पुलिस उस जंगल में भी हो आई है, जहां आफताब ने श्रद्धा के शरीर के अंग काटकर फेंके थे। लेकिन अभी तक पुलिस को श्रद्धा का सिर बरामद नहीं हो पाया है। इस बारे में आफताब ने जो जानकारी दी है पुलिस उसकी जांच कर रही है। हर उस जगह की तलाश की जा रही है जहां पर आफताब ने श्रद्धा के शरीर के टुकड़े फेंके हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली की साकेत कोर्ट ने आफताब के नार्को टेस्ट को मंजूरी दे दी है। दिल्ली पुलिस किसी भी समय आफताब का नार्को टेस्ट करा सकती है।

मर्डर के 20 दिनों तक आफताब जो किया, वो कोई नहीं सोच सकता (Shraddha Murder Case)

आफताब अमीन पूनावाला ने श्रद्धा का मर्डर तो बड़ी आसानी से कर दिया लेकिन उसके बाद अगले 20 दिनों तक उसने जो कुछ भी किया वो बेहद चौंकाने वाला है। श्रद्धा की लाश (Shraddha Dead Body) को ठिकाने लगाना और ठिकाने लगाने से पहले लाश के टुकड़े करना। इन सब चीज़ों के बारे में उसने बहुत बारीकी से सोचा था. इतना ही नहीं, लाश को ठिकाने लगाने के बाद कैसे कमरे से हर सबूत को मिटाना है? उन्हें साफ करना है। इसके बारे में भी बाकायदा उसने स्टडी की थी

मर्डर के कई दिन बाद तक श्रद्धा का इंस्टाग्राम यूज करता हरा आफताब

दक्षिण जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार, आफताब ने पूछताछ में खुलासा किया है कि श्रद्धा के बारे में कोई संदेह न हो, इसलिए आफताब 10 दिन तक उसका इंस्टाग्राम (Shraddha Instagram) चलाता रहा। आरोपी आफताब ने पूछताछ में खुलासा किया है कि दोनों शादी नहीं करना चहाते थे। दोनों जिंदगी को अपने तरीके से जी रहे थे।

पहचान मिटाने के लिए चेहरे और हाथ जलाए (Shraddha Murder Case)

आफताब अमीन पूनावाला ने पुलिस को बताया है कि उसने श्रद्धा के चेहरे, हाथों की कलाईयां व ऊंगलियां को ब्लोअर टॉर्च से जला दिया था। इसके लिए वह ब्लोअर टॉर्च महरौली मार्केट से खरीदकर लाया था। आरोपी का कहना है कि श्रद्धा की पहचान मिटाने के लिए चेहरे व हाथों (Shraddha Dead Body) को जलाया था। पुलिस की जांच के बाद ये बात सामने आई है कि आरोपी आफताब ने श्रद्धा के सिर को सबसे बाद में फेंका था। आरोपी ने खुलासा किया है कि फ्रिज खोलते समय श्रद्धा के चेहरे को देखता था।

खौफनाक हत्याकांड की कहानी, आफताब की जुबानी

आफताब ने पुलिस को बताया है कि 18 मई बुधवार की रात श्रद्धा से झगड़ा हुआ था. झगड़ा इससे पहले भी होता था लेकिन उस दिन बात बढ़ गई। दोनों में हाथापाई हुई और फिर उसने यानि आफताब ने श्रद्धा को पटक दिया। इसके बाद उसके सीने पर बैठ कर दोनों हाथों से गला दबाकर मार दिया।

जानिए मर्डर के बाद आफताब ने क्या क्या किया

आफताब (Aftab Amin Poonawalla) ने बताया कि उस रात श्रद्धा की लाश घसीट कर बाथरूम ले गया। सारी रात लाश वहीं पड़ी रही। इसके बाद अगले दिन 19 मई को बाजार गया। लोकल मार्केट गया, वहां कीर्ति इलेक्ट्रॉनिक शॉप से तीन सौ लीटर का एक फ्रिज खरीदा। एक अन्य दुकान से आरी खरीदी, फिर घर आया और 19 मई की रात को उसी बाथरूम में आरी से लाश के टुकड़े करने शुरू किए। कुछ दिनों के लिए शेफ की नौकरी भी की थी।

उससे पहले करीब दो हफ्ते की ट्रेनिंग भी ली थी। इस दौरान चिकन और मटन के पीस करने की भी ट्रेनिंग मिली थी। आफताब ने बताया कि 19 मई को मैंने लाश के कुछ टुकड़े किए थे। उन्हें पॉलीथिन में डाला, फिर उन टुकड़ों को पॉलीथिन समेत फ्रिज के फ्रीजर में रख दिया था। बाकी लाश फ्रिज के निचले हिस्से में रखी थी।

पुलिस से बचने के लिए की थी पूरी तैयारी

इसके बाद 19 और 20 की रात पहली बार लाश के कुछ टुकड़े फ्रीजर से निकाल कर बैग में रखे थे। पहली रात बैग में कम टुकड़े रखे थे, क्योंकि लाश के टुकड़ों के साथ देर रात बाहर निकलने में डर लग रहा था कि कहीं रास्ते में पुलिस तलाशी ना ले ले। 19 और 20 मई की रात महरौली के जंगल में टुकड़े फेंके थे. पर जंगल के ज्यादा अंदर नहीं गया था। आरोपी आफताब ने बताया मैं सिर्फ छतरपुर और महरौली के आस-पास ही जाता था। ज्यादा दूर जाने में पकड़े जाने का खतरा था।

घर से बाहर नहीं निकलता था (Shraddha Murder Case)

Aftab Amin Poonawalla के मुताबिक घर में लाश थी इसलिए मैं घर से बाहर निकलता ही नहीं था. ना ही किसी पड़ोसी से मिलता या बात करता था। मैं बार-बार टुकड़ों को फ्रिज के निचले हिस्से से फ्रीजर में और फ्रीजर में रखे टुकड़ों को नीचे रख कर उनकी अदला-बदली किया करता था ताकि लाश की बू बाहर ना आ सके। घर, फ्लोर, बाथरूम इन सबकी केमिकल से सफाई किया करता था। फ्रिज खाली होने के बाद फ्रिज को भी केमिकल से अच्छे से साफ किया। बाथरूम, फर्श, दीवार, चादर, कपड़े हर चीज को धोया और साफ किया।

न्यूज़ सोर्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.

https://todopazar.com/slot-bonus/

http://newsnation51.com/rtp-slot/

https://bfamm.org/wp-includes/slot-bonus-100/

https://piege-photographique.com/wp-includes/rtp-slot-live/

https:https://grupoeditorialquimerica.com/wp-includes/rtp-slot-live/