उत्तराखंड के पर्वत चोटी द्रोपदी डांडा-2 में बर्फीले तूफान की चपेट में आने से 10 पर्वतारोहियों की दुःखद मौत,

Spread the love

 

Big breaking :-द्रौपदी का डांडा-2 पर्वत चोटी में हिमस्खलन होने के कारण नेहरू पर्वतारोहण संस्थान, उत्तरकाशी के 28 परीक्षार्थी फंसे, सीएम धामी ने रक्षा मंत्री से की बात, 10 की मौत की खबर

उत्तरकाशी आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेंद्र पटवाल ने बताया कि आठ पर्वतारोहियों को उनकी टीम के सदस्यों ने बचा लिया और बाकी को सुरक्षित निकालने की कोशिश जारी हैं

 

द्रौपदी का डांडा-2 पर्वत चोटी में हिमस्खलन होने के कारण नेहरू पर्वतारोहण संस्थान, उत्तरकाशी के 28 प्रशिक्षार्थियों के फंसे होने की सूचना प्राप्त हुई है।

NMI के प्रिंसिपल कर्नल अमित बिष्ट ने PTI को बताया कि उत्तरकाशी हिमस्खलन त्रासदी में अब तक 10 पर्वतारोहियों की मौत हो गई है। वहीं, आज आठ लोगों को बचाया गया है। लापता 11 लोगों की तलाश की जा रही है।उन्होंने कहा कि 10 शव देखे गए थे। उनमें से चार बरामद कर लिए गए हैं और अन्य की तलाश जारी है।बताया जा रहा है कि फंसे हुए पर्वतारोहियों में कर्नाटक और अन्य राज्यों के युवा शामिल हैं।

प्रदेश के सीएम पुष्कर सिंह धामी ने केंद्रीय रक्षा मंत्री Rajnath Singh जी से वार्ता कर रेस्क्यू अभियान में तेजी लाने के लिए सेना की मदद लेने हेतु अनुरोध किया है, जिसको लेकर उन्होंने हमें केंद्र सरकार की ओर से हर सम्भव सहायता देने के लिए आश्वस्त किया है।

डीआईजी एसडीआरएफ रिद्धिम अग्रवाल ने बताया कि एसडीआरएफ की रेस्क्यू टीम निम के बेस कैंप पर पहुंच चुकी है. एयरफोर्स के चॉपर ने सरसावा से टेक ऑफ कर लिया है. इसके अलावा प्राइवेट चॉपर भी सहस्त्रधारा हेलीपैड से उड़ान भर चुके हैं. एयरफोर्स का चॉपर पूरी रेकी करने के बाद बड़े स्तर पर रेस्क्यू कार्य में मदद करेगा. वहीं, भारी बर्फबारी के कारण रेस्क्यू अभियान रोक दिया गया है

प्रशिक्षार्थियों को जल्द से जल्द सकुशल बाहर निकालने के लिए NIM की टीम के साथ जिला प्रशासन, NDRF, SDRF, सेना और ITBP के जवानों द्वारा तेजी से राहत एवं बचाव कार्य चलाया जा रहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.