डब्लूआईसी इंडिया, देहरादून ने लेखक रहमान अब्बास की किताब ‘रोहजिन’ पढ़ने और चर्चा करने के सत्र का आयोजन करवाया।

Spread the love

 

देहरादून : डब्लूआईसी इंडिया, देहरादून और पेंगुइन रैंडम हाउस ने ‘रहमान अब्बास द्वारा लिखी रोहजिन’ पुस्तक पढ़ने और चर्चा की मेजबानी की। सत्र का संचालन प्रोफेसर हम्माद फारूकी ने किया। ‘रोहजिन’ का जर्मन, अंग्रेजी और हिंदी भाषाओं में अनुवाद भी किया गया है। इस किताब को स्विस और जर्मन सरकारों द्वारा प्रतिष्ठित लिटप्रोम ग्रांट पुरुष्कार भी मिला चुका है।

रहमान अब्बास एक भारतीय मूल के कथा लेखक और 2018 में अपने उपन्यास रोहज़िन के लिए भारत के सर्वोच्च साहित्यिक पुरस्कार साहित्य अकादमी पुरस्कार के प्राप्तकर्ता भी हैं। वह 2017 में हाइड ऐंड सीक इन द शेडो ऑफ गॉड तथा रोहज़िन किताब के लिए दो राज्य अकादमी पुरस्कार भी प्राप्त कर चुके हैं, । वह एकमात्र भारतीय उपन्यासकार हैं, जिन्हे उनकी किताब रोहज़िन के लिए जर्मन संघीय विदेश कार्यालय और स्विस-साउथ कल्चरल फंड द्वारा वित्त पोषित लिटप्रोम ग्रांट पुरुष्कर भी मिला है। वह अंग्रेजी ओर उर्दू मे भाषाओं लिखते हैं। उनके उपन्यास प्रेम और निषिद्ध राजनीति के विषयों से संबंधित होते हैं।

रहमान अब्बास के अनुसार, “मैं डब्ल्यूआईसी इंडिया में मौजूद दर्शकों के सामने अपनी पुस्तक ‘रोहजिन’ पर चर्चा करने के लिए उत्साहित हूं। रोहज़िन एक कल्पना के धरातल पर रहता है, जो पाठकों को मुंबई शहर में एक अनूठी यात्रा पर ले जाता है, एक अत्यधिक अपने आप में दिलचस्प चरित्र। उपन्यास का नायक, असरार, मुंबई आता है, और उसकी आँखों के माध्यम से मैंने मुंबई के अब तक के अज्ञात पहलुओं, अनदेखी रंगों और शहर के अनदेखे रहस्यों का वर्णन किया है। उपन्यास का सारांश मानवीय भावनाओं, विशेष रूप से प्रेम, लालसा और कामुकता को उदात्त अभिव्यक्ति के रूप में विभिन्न पहलुओं का अध्ययन करवाता है ।”

इस सत्र में पूर्व डीजीपी श्री आलोक लाल; विजडम अकादमी, हिमगिरी संस्थान, दून विश्वविद्यालय के संकाय सदस्य और जन संवाद एनजीओ के प्रतिनिधि; साहित्य प्रेमी और डब्ल्यूआईसी के सदस्यों ने भाग लिया।

वर्ल्ड इन्टेग्रिटी सेन्टर इंडिया, देहरादून के बारे में:

वर्ल्ड इन्टेग्रिटी सेन्टर इंडिया, देहरादून (डब्ल्यूआईसी), उत्तराखंड का एकमात्र सामाजिक-सांस्कृतिक और मनोरंजक केंद्र है जहाँ हम लोगों और संस्थानों को एक साथ लाने का प्रयास करते हैं ताकि आपसी संवाद और सीखने के लिए अधिक से अधिक अवसर पैदा हो सकें। विभिन्न क्षेत्रो से आये लोगों की आपसी बातचीत और दोस्ती यहाँ पर उनमे अंतरराष्ट्रीय समझ और अंतर-सामुदायिक संघों के लिए एक मजबूत आधार बनाती है। इस तरह की बातचीत लोगो में रूढ़िवाद, आपसी मतभेदों और अलग अलग प्रकार की धारणाओं को बदलने में महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करती है । हम हर वर्ष पांच सौ से अधिक आउटरीच कार्यक्रमों की मेजबानी करते हैं। हमारे द्वारा आयोजित प्रमुख कार्यक्रमों में डब्ल्यूआईसी वार्ता, द इंस्पायरर्स, द आइडिया ऑफ इंडिया व्याख्यान श्रृंखला आदि शामिल हैं। डब्ल्यूआईसी के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप हमारी आधिकारिक वेब साइट http://www.wicindia.org में क्लिक कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.