स्वाइन फ्लू की दस्तक से पहले एम्स ऋषिकेश हुआ अलर्ट,बनाये गए 6 आइसोलेशन वार्ड

Spread the love

ऋषिकेश– उत्तराखंड में स्वाइन फ्लू की दस्तक से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत के निर्देश पर विभिन्न विभागों के चिकित्सकों की बैठक ली गई जिसमें स्वाइन फ्लू के मद्देनजर आठ बिंदुओं पर महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। इस अवसर पर जनरल मेडिसिन विभाग की ओर से फैकल्टी व चिकित्सकों के लिए विशेष व्याख्यान का आयोजन भी किया गया। संस्थान के चिकित्सा अधीक्षक डा. ब्रह्मप्रकाश की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में स्वाइन फ्लू के मद्देनजर आपात बैठक हुई,जिसमें एहतियातन बिभिन्न ​बिंदुओं पर चर्चा की गई। बैठक में बताया गया कि संस्थान के मेडिसिन विभाग में स्वाइन फ्लू के मद्देनजर छह बिस्तर वाला आइसोलेशन रूम उपलब्ध है, साथ ही एन- 95 मास्क की व्यवस्था है। जबकि अन्य विभागों इमरजेंसी, ईएनटी, पुल मेडिसिन आदि विभागों के लिए 25000 मास्क की आवश्यकता है।

वही इस दौरान एमएस ने चिकित्सकों के साथ अस्पताल का निरीक्षण किया व संबंधित व्यवस्थाओं का जायजा लिया। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान में इस बीमारी के लिए पर्याप्त दवा, उपचार व इससे जुड़ी आवश्यक जांच की सुविधा उपलब्ध है। निदेशक प्रो.रवि कांत ने बताया कि इस बीमारी की रोकथाम के लिए टीकाकरण की सुविधा भी उपलब्ध है,मगर यह टीकाकरण प्रत्येक व्यक्ति को हर साल अक्टूबर-नवंबर माह में कराना चाहिए,जिससे जनवरी-फरवरी माह में स्वाइन फ्लू बीमारी के दुष्प्रभाव से बचा जा सके। इस अवसर पर आयोजित व्याख्यान में कार्यक्रम संयोजक डा. प्रसन कुमार पंडा ने चिकित्सकों को इन्फ्यूएंजा वाइरस के बारे में जागरुक किया। उन्होंने बताया कि यही वाइरस एच1 एन1 (स्वाइन फ्लू) का कारक बनता है। इस दौरान उन्होंने इस बीमारी की पहचान के लक्षण बताए। उन्होंने बताया कि तेज बुखार, शरीर में दर्द, खांसी व गले में दर्द की शिकायत जैसे लक्षण स्वाइन फ्लू की आशंका हो सकती है।

इन तीन बातों का रखें ध्यान-

1-बीमारी के समय शरीर को पूरा रेस्ट दें।

2- सामान्य स्थिति में हर रोज पीने वाले पानी की मात्रा को दोगुना बढ़ा दें।

3-बुखार होने पर पारासिटामल टेबलेट दिन में चार से पांच बार लें। तीन दिन दवा लेने पर आराम नहीं मिले तो तत्काल चिकित्सक से संपर्क करें।

वही इस बैठक में डीन एकेडमिक प्रोफेसर मनोज गुप्ता, डा. जया चतुर्वेदी, डा. नीलम, डा. सारून,डा. सुनीता मित्तल, डा. किम मेमन, डा. सौरभ वार्ष्णेय, डा. बलराम जीओमर, डा. संतोष कुमार, डा. गिरीश सिंधवानी, डा. गौरव चिकारा, डा. भारतभूषण भारद्वाज ,डा.अनुभा अग्रवाल आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.