चमोली

चमोली : आपदा से कोंजपोथनी व काणा गांव में भारी तबाही, नौ परिवारों ने ली दूसरे घरों में शरण, दर्जनों मवेशियां दबी, जिला मुख्यालय से 20 किमी दूरी पर प्रभावित गांव का प्रशासन ने चार दिन बाद भी नहीं ली सुध, खाद्यान्न संकट पैदा !

अरूण राणा की खास रिपोर्ट

गोपेश्वर : दशोली ब्लाक के कोंज पोथनी, काणा गांव में बादल फटने से भारी नुक़सान, आदा दर्जन गाय मलवा में बहे, लोगों के घरों में घूसा मलवा, दूसरों के घरों में ली शरण, जिला मुख्यालय से 20 किमी की दूरी पर गांव लेकिन प्रशासन चार दिन बाद भी नहीं ले पाया प्रभावितों की सुध, गांव में खाद्यान्न संकट गहराया।

चमोली जिला मुख्यालय से 20 किमी दूरी पर स्थित कोंजपोथनी व काणा गांव में रविवार की रात्रि में बादल फटने से भारी नुक़सान हुआ है।

Video Player

ग्रामीणों के कही घरों में मलवा घुस गया है और कुछ गौशाला और दर्जनभर मवेशियां मलवे में बह गए हैं। गांव का विद्यालय व पंचायत घर भी मलवे में जमींदोज हो गए हैं। क्षेत्र पंचायत सदस्य ममता कठैत ने बताया कि बादल फटने से गांव में भारी नुक़सान पहुंचा है। लोगों ने रात में भागकर जान बचाई। अब नौ परिवार दूसरों के घरों में शरण लिए हुए हैं। दर्जनों वाहन फंसे हुए हैं, जिनमें कुछ वाहनों को भी नुकसान हुआ है। आपदा के चार दिन बाद भी 20 किमी से प्रशासन अभी तक ग्रामीणों की सुध लेने नहीं पहुंचा है। न ही कोई जनप्रतिनिधि यहां पहुंचा है। गांव में खाद्यान्न संकट पैदा हो गया है। लेकिन कोई सुध लेने वाला नहीं है। ग्रामीणों में मायूसी और दहशत बना हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *