कोरोना वाइरस के आतंक से लॉक डाउन में अपने कर्तव्यों और दायित्वों के प्रति समर्पित दून पुलिस का आरक्षी को पुत्र रत्न की प्राप्ति के बाद भी हॉस्पिटल में न जाकर केवल फोन से ही अपनी पत्नी से उनकी कुशलता पूछी।

Spread the love

 

देहारादन:-वर्तमान में कोरोना वायरस के संक्रमण के दृष्टिगत दून पुलिस द्वारा दिन-रात आम जन-मानस तक सभी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने तथा उनकी सुविधा हेतु अथक परिश्रम के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया जा रहा है, दून पुलिस के प्रत्येक अधिकारी/कर्मचारी द्वारा प्रत्येक ऐसे व्यक्ति, जिसके द्वारा अपनी समस्याओं/आवश्यकताओं हेतु उनसे सम्पर्क किया जा रहा है, उसे अपने परिवार का सदस्य मानते हुए उसकी हर सम्भव सहायता की जा रही है। जनता की सेवा में लगे अधिकतर अधिकारी/कर्मचारी लाॅक डाउन की अवधि प्रारम्भ होने के उपरान्त से ही अपने परिजनों से नहीं मिल पाये हैं तथा उनके द्वारा वर्तमान परिदृश्य में जनता के हितों को अपने पारिवारिक दायित्वों से अधिक वरियता दी गयी है, इसी क्रम में थाना प्रेमनगर में तैनात आरक्षी नरेन्द्र रावत, जिनकी पत्नी 09 माह की गर्भवती थीं तथा घर में उनकी देख-रेख हेतु उनकी भाभी के अतिरिक्त और कोई मौजूद नहीं था, फिर भी अपने कर्तव्य को उक्त आरक्षी द्वारा अपने पारिवारिक दायित्वों पर वरियता देते हुए लाॅकडाउन प्रारम्भ होने के बाद से ही लगातार थाना प्रेमनगर पर मौजूद रहते हुए अपने कार्य को लगन व पूर्ण निष्ठा से निर्वहन किया जा रहा है। दिनांक- 22-04-20 को उक्त आरक्षी की पत्नी श्रीमती वैशाली रावत द्वारा एक स्थानीय चिकित्सालय में एक पुत्र को जन्म दिया, परन्तु अपने कर्तव्यों और दायित्वों के प्रति समर्पित उक्त आरक्षी द्वारा चिकित्सालय में न जाकर केवल फोन के माध्यम से ही अपनी पत्नी से सम्पर्क स्थापित करते हुए उनकी कुशलता पूछी गयी तथा पुनः अपने कर्तव्य पर उसी मनोयोग से जुट गया। आरक्षी की पत्नी तथा बच्चा दोनों सकुशल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.