उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य व स्वामी चिदा नंद सरस्वति ने दीप प्रज्ज्वलित कर पर्यावरण यात्रा का उद्घाटन किया

Spread the love
       सोमवार को परमार्थ निकेतन में उत्तराखण्ड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य, परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानन्द सरस्वती, और अन्य गणमान्य अतिथियों ने दीप प्रज्जवलित कर पर्यावरण यात्रा कार्यक्रम का उद्घाटन किया।
      इस समारोह में पर्यावरण मित्र, एक सौ महिलायें जो कि गुजरात रैग पिकेर्स समुदाय की है, वे गांधी आश्रम, गुजरात से गंगा के पावन तट पर आयी है। इस दल की महिलाओं में कई ऐसी भी है जो अपने शहर से बाहर कभी नहीं गयी थी और अब वे अपने दल के साथ पर्यावरण का संदेश देने हेतु ऋषिकेश आयी है उनके लिये यह यात्रा बहुत यादगार और जीवन की एक विशेष यात्रा है। वे इस यात्रा के माध्यम से विश्व को पर्यावरण से जुड़ने का संदेश देने हेतु अपने घरों से निकली है।
    उत्तराखण्ड की राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने महिलाओं और बेटियों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिये आयोजित इस कार्यक्रम हेतु आयोजकों को  बधाई देते हुये कहा कि अहमदाबाद गुजरात से आयी रैग पिकर्स समुदाय की बहनें वास्तव में सच्ची पर्यावरण प्रहरी है। एक अनुमान के अनुसार कूड़ा बीनने वालों द्वारा भारत में 62 मिलियन टन कूड़े का निपटान किया जाता है। उन्होेने कहा कि भारत को एकल उपयोग प्लास्टिक से मुक्त करना है इस हेतु आप सभी की भूमिका महत्वपूर्ण है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि पर्यावरण संरक्षण में इतना महत्वपूर्ण योगदान देने के बावजूद कूड़ा बीनने वालों को कोई नौकरी की सुविधा, सुरक्षा और सम्मान नहीं मिलता। इन्हे अपने काम के दौरान कई तरह की बीमारियों और दुर्घटनाओं का सामना करना पड़ता है। राज्यपाल ने कहा कि सरकार इस ओर कार्य कर रही है परन्तु अन्य संगठनों को भी रैग पिकर्स की सुरक्षा हेतु कार्य करने के लिये आगे आना चाहिये।
   राज्यपाल ने कहा कि हमें लोगों को शौचालय, स्वच्छ भारत मिशन और स्वच्छता से जोड़ने हेतु आगे आना चाहिये। इस हेतु समन्वित प्रयासों की जरूरत है। इस कार्य के लिये सरकार के साथ समाज के लोगों को भी जुड़ने की जरूरत है।
परमार्थ निकेतन के स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने कहा कि मातृ शक्ति सबसे महान है और इसलिये भी महान है कि कई बार परिवार में भी जो कार्य कोई नहीं करता वह मातृ शक्ति को करना पड़ता है। माँ होकर धरती माँ की रक्षा करना, वहां के कचरे को साफ करना और धरती माँ की गंदगी को साफ करना इतना आसान नहीं है। स्वामी जी ने सभी रैग पिकर्स बहनों का गंगा जी की धरती पर अभिनन्दन करते हुये कहा कि आप वास्तव में भारत को स्वच्छ भारत बनाने हेतु संकल्पित है।
परमार्थ निकेतन में रैग पिकर्स बहनों पर बनी एक फिल्म भी दिखायी गयी। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज ने राज्यपाल श्रीमती मौर्य जी को पर्यावरण का प्रतीक रूद्राक्ष का पौधा भेंट किया।
इस अवसर पर साध्वी भगवती सरस्वती जी, पुनीत कुमार अग्रवाल, केन्द्र प्रबंधन गौरव राठौर, भरत जोशी, वीणा बेन आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.