भगवान मद्महेश्वर के कपाट खुलने के बाद तीर्थयात्रियों से गुलजार रहने वाली घाटियों में सन्नाटा! ऊखीमठ से श्री लक्ष्मण सिंह नेगी की रिपोर्ट

Spread the love

ऊखीमठ! भगवान मदमहेश्वर के कपाट खुलने के बाद तीर्थ यात्रियों से गुलजार रहने वाले यात्रा पड़ाव लॉक डाउन के कारण वीरान पड़े हुए हैं! लॉक डाउन के कारण  तीर्थ यात्रियों की आवाजाही पर रोक लगने से स्थानीय व्यापारियों को भविष्य की चिंता सताने लग गयी है! यदि प्रदेश सरकार की पहल पर केन्द्र सरकार द्वारा स्थानीय तीर्थाटन व पर्यटन व्यवसाय को बढ़ावा देने के प्रयास नहीं किये गये तो देव स्थानम् बोर्ड के साथ ही मदमहेश्वर धाम के हकहकूकधारियों व स्थानीय व्यापारियों के सामने रोजी-रोटी का संकट बन जाएगा।

विगत वर्षों की बात करें तो भगवान मदमहेश्वर के कपाट खुलने के पावन अवसर पर ही सैकड़ों तीर्थ यात्री मदमहेश्वर धाम पहुंचते थे जिससे मदमहेश्वर यात्रा पड़ाव मनसूना, बुरुवा,राऊलैक, उनियाणा,रासी, अकतोली, गौण्डार, बनातोली, खटारा, नानौ, मैखम्भा, कूनचटटी सहित मदमहेश्वर धाम में रौनक बनी रहती थी! इन यात्रा पड़ावों पर तीर्थ यात्रियों की आवाजाही होने से मन्दिर समिति सहित स्थानीय व्यापारियों की आर्थिकी सुदृढ़ होने के साथ ही स्थानीय उत्पादों को भी बढ़ावा मिलता था। मदमहेश्वर घाटी के सिद्धपीठ काली शिला, राकेश्वरी मन्दिर रासी व मनणा माई तीर्थ में भी तीर्थ यात्रियों की आवाजाही शुरू हो जाती थी! रासी-मनणा- केदारनाथ, मदमहेश्वर- पाण्डव सेरा- नन्दी कुण्ड पैदल ट्रेको पर भी आवागमन शुरू होने से स्थानीय गाइडों के सन्मुख भी स्वरोजगार के अवसर प्राप्त हो जाते थे, मगर इस बार वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन होने से मदमहेश्वर घाटी के यात्रा पड़ावों पर सन्नाटा पसरा हुआ है। जिससे यहाँ के जनमानस के चेहरे पर भविष्य की लकीरें साफ छलक रही है। जिला पंचायत सदस्य कालीमठ विनोद राणा का कहना है कि केन्द्र सरकार को मानकों के तहत पर्यटन व्यवसाय में भी ढील देने होगी जिससे यहाँ के जनमानस की आजीविका बनी रहे! मदमहेश्वर धाम के व्यापारी भगत सिंह पंवार का कहना है कि मदमहेश्वर सहित सभी यात्रा पड़ावों पर सन्नाटा पसरने से सभी को भविष्य की चिन्ता सताने लगा गयी है। प्रधान रासी कुन्ती नेगी, शिव सिंह रावत, मदमहेश्वर घाटी विकास मंच अध्यक्ष मदन भटट्, रणजीत रावत का कहना है कि यदि आने वाले दिनों में लॉक डाउन की गाइडलाइन में छूट देकर क्षेत्र के पर्यटन व्यवसाय को पटरी पर लाने के प्रयास नहीं किये गये तो मदमहेश्वर धाम की यात्रा पर निर्भर रहने वाले लोगों के सन्मुख रोजी- रोटी का संकट खड़ा हो सकता है!

©® Mr lakshman singh negi ukhimath

Uttarakhand

Leave a Reply

Your email address will not be published.