यमकेश्वर विधानसभा बूंगा गांव निवासी श्री जगदीश भट्ट जी के सामाजिक कार्यो की सहारना चारो और हो रही है। नित बेजुबान प्राणियों की सेवा से अपनी दिनचर्या सुरु करते है।

Spread the love

यमकेश्वर पौड़ी गढ़वालकोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लेकर लगाये गये लॉकडाउन में प्रसिद्ध समाजसेवी श्री जगदीश भट्ट जी के द्वारा बेजुबानो की सेवा करने का जज्बा सराहनीय है. कोरोना महामारी के समय आम जनता का ही नहीं बल्कि बेजुबानों का भी ध्यान रख रहे है । पूरे देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से रोकथाम एवं बचाव के लिए सरकार हर संभव मदद कर रही है। तो वहीँ बेजुबानो के सामने भी खाने का संकट खड़ा हो गया है जिसमें श्री जगदीश भट्ट जी के द्वारा लगातार चारे की व्यवस्था कर गौवंश एवं पशुओ को चारा खिला रहे है।

कोरोना महामारी के चलते अचानक लगे लॉकडाउन में आम आदमी ही नहीं, बल्कि बेजुबान जानवर (पशु और कुत्ते) भी दिक्कत में आ गए थे। उन्हें खाने से लेकर पीने के लिए पानी तक नहीं मिल पा रहा है। प्रशासन की ओर से अपने स्तर पर प्रयास किए जा रहे है। लेकिन फिर भी कई इलाकों में बेजुबानों का बुरा हाल है। इसमें समाज सेवी लोग व पुलिस भी सहयोग कर रही हैं, जिससे उक्त जानवरों का जीवन भी सामान्य तरीके से चलता रहे। श्री जगदीश भट्ट जी के द्वारा लॉकडाउन में लगातार गौवंश एवं अन्य पशुओ के लिए चारे की व्यवस्था पहले दिन से ही लगातार की जा रही है. बेजुबान जानवर भूखे न रहे इसके लिए श्री जगदीश भट्ट जी लगातर चारे की व्यवस्था कर पशुओ को चारा खिला रहे है.


कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव को लेकर लगाये गये देश व्यापि लॉकडाउन में कुत्तो के भोजन की व्यवस्था की जा रही है. लॉकडाउन में कुत्ते,बन्दर भूखे न रहे इसके लिए ब्रेड, खिचड़ी, दलिया बनाकर कुत्तो को खिला रहे है. लॉक डाउन में अपने खर्चे से श्री जगदीश भट्ट जी बेजुबानो का सेवा करने का यह नेक कार्य सराहनीय है.

पशु सेवा हर रोज चंद्रभागा से शुरु होकर चौदह बीघा ढालवाला कैलाश गेट मुनि की रेती रामझूला शिवानंद आश्रम लक्ष्मण झूला तपोबन ब्रहमपुरी नीर गुड और गरुड चट्टी तक के लावारिस पशुओं की नित सेवा की जा रही है व श्री भट्ट जी के द्वारा पशुओं के लिये जगह जगह पर चारे व पानी की व्यवस्था  की गई है। चंद्र भागा से गरुड चट्टी के बीच घुम रहे सैकडों पशुओं की भुख मिटाई जा रही है लेकिन देव भूमि ऋषिकेश के मुख्य बजार से लेकर नटराज चौक, कोयल घाटी, काली की ढाल, गीता नगर, आईडीपील, श्यामपुर की गलियों मे घुम रहे सैकडौं लावारिस पशुओं के लिये ये नाकाफी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.