पिथौरागढ़ जनपद के बुंगाछीना कस्बे में बुजुर्ग भाई-बहन के ऊपर एक जंगली सुअर ने जानलेवा हमला कर दिया।

Spread the love

पिथौरागढ़ जनपद के बुंगाछीना कस्बे में बुजुर्ग भाई-बहन के ऊपर एक जंगली सुअर ने जानलेवा हमला कर दिया।

पिथौरागढ़ जनपद के पहाडी क्षेत्रो में लॉकडाउन के बाद से गांव के लोगों के साथ-साथ शहरों और कस्बों में रह रहे लोगों की जान के ऊपर भी खतरा मंडरा रहा है। ऐसा इसलिए क्योंकि सड़कों पर मनुष्यों की उपस्थिति बिल्कुल न के बराबर है। ऐसे में जंगली जानवरों को जंगलों की सीमाओं का आभास नहीं हो रहा है। वह शोर-शराबा कम होने के कारण मानव बस्तियों की ओर रुख कर रहे हैं। आए दिन इंसानों के ऊपर हो रहे जंगली जानवरों की हमले की खबर सुनते हैं तो दिल दहल उठता है। कई बार तो जंगली जानवरों का हमला इतना खतरनाक साबित होता है कि वो इंसान को मौत के घाट उतार देता है। लॉकडाउन के दौरान तो जंगली जानवरों का खौफ चरम पर है। ऐसी ही एक खबर पिथौरागढ़ से आई है। पिथौरागढ़ जनपद के बुंगाछीना कस्बे में मंगलवार को एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। एक जंगली सुअर के हमले से बुजुर्ग भाई-बहन बुरी तरह घायल हो गए हैं। हमले के बाद से ही कस्बे में हड़कंप मचा हुआ है।
घटना पिथौरागढ़ जनपद के बुंगाछीन कस्बे की है। मंगलवार को 60 वर्षीय दुकानदार श्याम दत्त अपनी दुकान खोलने के लिए गए। उनके साथ उनकी 56 वर्षीय बहन गोदावरी देवी भी थीं। दुकान खोलने के दौरान अचानक ही पास की झाड़ियों से एक जंगली सुअर निकला और उसने श्याम दत्त और गोदावरी देवी के ऊपर जानलेवा हमला कर दिया। हमले में दोनों भाई-बहन बुरी तरह घायल हो गए। उनकी चीख-पुकार सुनकर कस्बे के स्थानीय लोग मौके पर पहुंचे और घायल भाई-बहन को तुरंत ही जिला अस्पताल ले जाया गया। सही समय पर मिले उपचार से दोनों भाई-बहन की हालत अब खतरे से बाहर बताई जा रही है। दोनों भाई-बहन को घायल करने के बाद भी सुअर घंटों तक झाड़ियों के पीछे ही छिपा रहा। लोगों ने शोर मचाकर बड़ी मशक्कत के बाद जंगली सुअर को वापस जंगल की ओर खदेड़ा। लॉकडाउन के बाद से जंगली जानवर मानव बस्ती की ओर बेखौफ रुख कर रहे हैं जिससे लोगों की जान के ऊपर खतरा बना हुआ है। ऐसे में वन विभाग की जिम्मेदारी बनती है कि वो लोगों की सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.